बंद करे

पथ निर्माण

पथ निर्माण विभाग, पथ प्रमण्डल, सिमडेगा का कार्य क्षेत्र:-पथ निर्माण विभाग, पथ प्रमण्डल, सिमडेगा के अंतर्गत जिला के महत्वपूर्ण पथों एवं पुलों के गुणवत्तापूर्ण निर्माण की जिम्मेदारी है। राज्यस्तरीय पथ(SH), अंतराज्यीय पथ , जिला के मुख्य पथ (MDR), जिला के अन्य पथ (ODR) एवं दो मुख्य पथों को जोड़ने वाली पथों का कालीकरण तक नव निर्माण/चैड़ीकरण/सुदुढ़ीकरण का कार्य कराया जाता है। इन पथों की स्वीकृति राज्य के स्तर से दी जाती है।
इसके अतिरिक्त निर्मित पथों का रख-रखाव एवं मरम्मति कार्य भी कराई जाती है।

पथ निर्माण विभाग, पथ प्रमण्डल, सिमडेगा का योगदान:-
पथों के निर्माण से संपर्क में आने वाले क्षेत्रों की आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक विकास को गति पथों के निर्माण से संपर्क में आने वाले क्षेत्रों की आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक विकास को गति मिलती है। पर्यटन स्थलों का सीधा सम्पर्क जिला मुख्यालय एवं राज्य मुख्यालय से हो जाने से पर्यटन उध्योग का विकास तेजी से होता है और वे राज्य के मानचित्र पर आ जाते है।
सुदूर गाँवों में स्वास्थ्य सुविधा पहुँचाना आसान हो जाता है, जिससे लोगों के जीवन की रक्षा संभव हो पाती है। कानून व्यवस्था कायम रखने के लिये पथों का निर्माण आवष्यक होता है। पथों के निर्माण से काफी संख्या में रोजगारों का सृजन होता है।

पथ प्रमण्डल, सिमडेगा के अंतर्गत कालीकृत पथों एवं उच्च स्तीरय पुलों का निर्माण कराया गया है जिसकी विवरणी निम्नप्रकार है:-
1. 3.75 मीटर चैड़ीकरण सिंगल लेन कालीकृत पथ -147.30 कि.मी.
2. 5.50 मीटर चैड़ीकरण इंटरमेडीएट लेन कालीकृत पथ – 276.706 कि.मी.
3. 7.00 मीटर चैड़ीकरण डबल लेन कालीकृत पथ – 08.10 कि.मी.
4. उच्च स्तरीय पुलांे की कुल लंबाई – 609.74 मीटर

निर्माणाधीन पथ:-
1. उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र अंतर्गत स्वीकृत बोलवा-बेलकुबा-टकबहार-कुदुरमुण्डा उड़ीसा सीमा तक पथ चैड़ीकरण एवं मजबूतीकरण कार्य (स्वीकृत लंबाई -16.50 कि.मी.) का निर्माण कार्यवनभूमि अपयोजन की अनुमति नहीं मिलने के कारण बंद है।
वन भूमि अपयोजन की कारवाई की जा रही है।

2. पालकोट (एन.एच. 23 पर) रोकोडेगा-बिलिंगबेरा-तमड़ा (SH-23  पर) पथ (कुल लंबाई 38.500 कि.मी.) चैड़ीकरण एवं मजबूतीकरण/पुननिर्माण कार्य का कार्य प्रगति पर है। पथ का कुल 7.00 कि.मी. का अंष ॅपसक स्पमि ब्मदजनंतलए ळनउसं में पड़ता है। जिस कारण उस अंष में काम रोक दिया गया है।
वन विभाग से अनुमति हेतु कारवाई की जा रही है। अनुमति मिलती ही कार्य कराया जाएगा। सड़क सुरक्षा समिति, सिमडेगा के द्वारा दिये गये निदेष के आलोक में सड़क सुरक्षा संबंधित कार्याें को कराया जाता है।