बंद करे

पशुपालन

पशुपालन विभाग सिमडेगा

 

पशुपालन विभाग, कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। यह विभाग पशुधन उत्पादन, पशुधन संरक्षण, पशु रोग नियंत्रण एवं रोकथाम तथा पशुओं के नस्ल सुधार हेतु जिम्मेवार है। पशुपालन विभाग ग्रामीण क्षेत्रों मे छोटे सीमांत किसानों, कृषको औरं श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

योजना/कार्यक्रम – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना:-

इसका मुख्य उद्देष्य बकरियां, सूकरों, मुर्गीयों और बत्तखों का लाभुकों को अनुदानित दर पर वितरण करते हुए उनके आय को बढ़ाना है। वर्ष 2020-21 में कुल 741 लाभुकों को इस योजना अंतर्गत अनुदान हेतु चयनित किया गया है।

राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम – फेज 2:- 

यह एक केन्द्र प्रायोजित कार्यक्रम है। इसका उद्देष्य दुधारू पशुओं का नस्ल सुधार करना है। इस कार्यक्रम के अंतर्गत अगस्त 2020 से जुलाई 2021 तक 7158 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान किया गया हैै।

राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम:- 

यह एक केन्द्र प्रायोजित कार्यक्रम है। इसके अंर्तगत (44304) पशुओं का एफ॰एम॰डी टीकाकरण वर्ष 2020-2021 मे किया गया।

विषेष पशु चिकित्सा शिविर:- 

वर्ष 2020-2021 मे जिले के 94 पंचायतों मे शिविर आयोजित किया गया जिसमे मुख्यतः पशुओं का चिकित्सा कार्य, दवाओं का वितरण एवं योजनाओं का प्रचार-प्रसार किया गया।