बंद करे

खान एवं भूतत्व

खान और भूविज्ञान विभागए जिला सिमडेगाए झारखंड के महत्वपूर्ण विभागों में से एक है। यह खान और भूविज्ञान का प्रशासनिक विभाग है। विभाग का मुख्य कार्य और गतिविधियाँ उनके शोषण,  प्रशासन एंव खनिज जमाओं का व्यवस्थित सर्वेक्षण और मूल्यांकन हैं खानों और खनिज रियायतोंएनियमित अवैध खनन की निगरानी एंव रोकथाम के लिए प्रवर्तन उपाय और खनिजों की तस्करी और खनन राजस्व का आकलन और स्वामिश्व प्राप्ति है। विभाग वैज्ञानिक और पर्यावरण के अनुकूल तरीके से खनिज के सतत विकास के लिए प्रयास करता हैय ताकि जिले में अविभाज्य विकास के लिए एक प्रवाहणीय वातावरण बनाया जा सके।
1. खान विभाग – खान विभाग खनन पट्टा निष्पादन (ML) एंव, पूर्वेक्षण लाइसेंस (PL) खनिजों के खनन परमिट और खनन पट्टों के अनुदान के लिए जिम्मेदार है। यह जिले में खनिज राजस्व एकत्र करता है। यह खनिज प्रशासन के नोडल विभाग के रूप में कार्य करता है और सिमडेगा जिले में खनिज विकासए टिकाऊ और वैध खनन से संबंधित कार्योंए नियमों और प्रावधानों के अनुसार निगरानी एंव क्रियान्वय का काम करता है।
2. विभाग – यह महत्वपूर्ण खनिजोंए भूजल सर्वेक्षणए भू.तकनीकी अध्ययन और विभिन्न प्रकार के खनिजों के विश्लेषण के भूवैज्ञानिक अन्वेषण का आयोजन करता है। इसमें सरकार के नए लागू किए गए खनिज नीलामी नियमए 2015 के संदर्भ में नीलामी के लिए खनिज ब्लॉक तैयार करने की जिम्मेदारी है।
सिमडेगा जिला मामूली खनिजों में समृद्ध है जैसे साचीए क्वार्ट्जए चूना पत्थरए डोलोमाइटए सजावटी पत्थरए काइनाइट लेड आदि। भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण (जी एस आई) ने सिमडेगा में शंख नदी के बिस्तर/ तल में डायमंड की खोज की है। जियोलाॅजिकल सर्वे आॅफ इंडिया ने सिमडेगा मे हीरा पाए जाने की पुष्टी की है। विशाल और होनहार हीरा जमा जिंदल स्टील और पावर ने सोने जैसी कीमती धातु की प्रारंभिक खोज करने के लिए एक टोह ली हैए जिसमें सिमडेगा में हीरे जैसे पत्थर भी शामिल हैं।
हमारी दृष्टि
एक समृद्ध खनिज उत्पादक जिलाए जहाँ प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग जिले और उसके लोगों के समग्र हित में पर्यावरणीय सुरक्षा को बेहतर ढंग से बनाए रखने के लिए किया जाता है।
हमारा लक्ष्य
राज्य के मौजूदा खनिज क्षमता का अन्वेषणए विकास और प्रशासन और सिमडेगा के लोगों के सामाजिक आर्थिक विकास के लिए और सख्त पर्यावरण सुरक्षित रक्षकों के तहत खनिज संसाधनों का इष्टतमए सुरक्षित और स्थायी पुनरीक्षण सुनिश्चित करने के लिए।